ब्रह्मचर्य

ब्रह्मचर्य संस्कृत के दो शब्दो - ब्रह्म और चर्य के मेल से बना है | ब्रह्म का अर्थ ईश्वर और चर्य का अर्थ आचरण से है | इस प्रकार ब्रह्मचर्य…

Continue Readingब्रह्मचर्य

अपरिग्रह

अपरिग्रह संस्कृत के शब्द परिग्रह का विपरीत है | परिग्रह शब्द का अर्थ भौतिक संपदा का संचय करना, भौतिक संपदा को जमा करना और उसके प्रति लालच करना है |…

Continue Readingअपरिग्रह

अस्तेय क्या है ?

अस्तेय शब्द संस्कृत के शब्द 'स्तेय ' के विपरीत अर्थ वाला है | 'स्तेय' शब्द का अर्थ ‘चोरी करना’ है | ठीक इसके विपरीत “अस्तेय ” का अर्थ किसी भी…

Continue Readingअस्तेय क्या है ?

अहिंसा क्या है ?

अहिंसा मूल शब्द हिंसा के विपरीत शब्द है | हिंसा का अर्थ किसी भी प्राणी या जीव को कष्ट या हानि पहुंचाने से है | इसके विपरीत अहिंसा सभी जीवन…

Continue Readingअहिंसा क्या है ?