You are currently viewing पेट कम करने के लिए योगासन
पेट कम करने के लिए योगासन

पेट कम करने के लिए योगासन

पेट कम करने के लिए योगासन कई अन्य कारको यथा -पेट कम करने की डाइट, पेट कम करने की एक्सरसाइज, पेट कम करने के घरेलु उपाय, पेट कम करने के लिए प्राणायाम इत्यादि के सम्मिलित प्रयासों से प्रभावी परिणाम देता है |आज के दौर में, प्रत्येक मनुष्य अपनी आर्थिक स्थिति को सही करने में इतना व्यस्त है कि उसके पास अपनी शारीरिक स्थिति को सुधारने का समय ही नहीं होता।

हम इस बात से सहमत है कि जीवन जीने के लिए आर्थिक स्थिति का सुदृढ़ होना आवश्यक है | परन्तु, इस बात को भी झूठलाया नहीं जा सकता कि मनुष्य का शरीर का स्वस्थ होना अति आवश्यक है। आज कल के समय में मनुष्य बिना शारीरिक श्रम किए सारा दिन बैठ कर कार्य करते है | या फिर कुछ ऐसे इंसान है जो सारा दिन दौड़-धूप वाला कार्य करते है वो भी बिना अपने स्वास्थ्य पर ध्यान दिए हुए।

इसके साथ ही साथ मनुष्य ग़लत खान -पान शैली यथा -जंक फ़ूड तथा तैलीय पदार्थों का ज्यादा सेवन करता है | नतीजतन मनुष्य का शरीर फैअस्वस्थ होने लगता है और मोटापा की अवस्था उत्पन्न हो जाती है | यही मोटापा अपने साथ लेकर आती है- अनगिनत बीमारियाँ। जब मनुष्य किसी बीमारी से ग्रषित हो जाता है तब वो अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देना शुरू कर देता है | पर यह तो वही बात हो गई “अब पछतावा होत क्या जब चिड़ियाँ चुग गई खेत” |

यदि समय पर अपने खान-पान और अपने स्वास्थ्य का ध्यान दिया गया होता तो ये दिन न देखने पड़ते। आज हम इसी विषय अर्थात पेट कम करने के लिए योगासन, पेट कम करने की डाइट, पेट कम करने की एक्सरसाइज, पेट कम करने के घरेलु उपाय, पेट कम करने के लिए प्राणायाम, इत्यादि पर चर्चा करेंगे, तो आइये शुरू करते है |

पेट कम करने की डाइट

यदि हम अनुपातिक दृष्टिकोण से कहें तो इस समय हर चौथा इंसान मोटापे से परेशान है। इसलिए आज हम आपको बतलाने वाले है – पेट कम करने की डाइट, जिसको यदि आप अपने दैनिक क्रिया-कलापों में अपना लें तो आप का पेट कम होने लगेगा और मोटापा भी गायब हो जाएगा। यह डाइट प्लान या “आहार सारणी” प्रत्येक व्यक्ति के लिए भिन्न -भिन्न हो सकता है | व्यक्ति का डाइट उसके शरीर रचना, कार्य की प्रकृति, स्थान -विशेष , उम्र , इत्यादि जैसे कई कारको पर महत्वपूर्ण रूप से निर्भर करता है | हम आपको समझाने के लिए समयानुसार एक सांकेतिक प्रारूप बतलायेंगे , जो इस प्रकार है :-

प्रातः काल : [06:00 से 07:00] – एक गिलास गुनगुना पानी + एक चम्मच शहद + एक चम्मच निम्बू का रस (तीनों को मिला कर पि लें)
नाश्ता : [07:30 से 08:30] – 2 उबले हुए अंडे + एक प्याला उबली हुई सब्जियां (जैसे – पत्ता गोभी, फूल गोभी, चुकुन्दर ) + एक गिलास दूध + एक प्याला अंकुरित दाल (जैसे चना, मुंग)
नाश्ते के बाद : [09:30 से 10:30] – मौसमी फल
दोपहर : [12:00] – 3 रोटियां + एक प्याला चावल + एक प्याली दाल + सलाद + एक प्याली दही
दोपहर : [02:30 से 03:30] – एक कटोरी ताजें फल + नारियल पानी
शाम [05:00 से 06:00] – एक प्याली अंकुरित चने + 2 काजू + 2 बादाम + किशमिश
रात [08:00 से 09:00] – 2 रोटियां + एक छोटी प्याली ब्राउन राइस + 1 प्याली दाल + मछली / चिकन / मशरूम / पनीर + उबली हुई सब्जियां
*सोने से पहले एक गिलास गर्म दूध।

पेट कम करने की एक्सरसाइज

अब हम आपको बतलाने जा रहें है पेट कम करने की एक्सरसाइज, जो इस प्रकार है

“सिंगल लेग स्ट्रेच”


आप अपने पीठ के बल सीधा लेट जाएँ और अपने दोनों पैरों को ऊपर उठायें। इसके बाद अपने बाएं पैर को घुटने द्वारा मोड़ते हुए अपने दोनों हाथों से जकड लें। 5 सेकंड के बाद बाएं पैर को सीधा कर लें। फिर यही प्रक्रिया दाहिने पैर से करें। इस प्रक्रियां को 10 से 12 बार करें।

“डबल लेग स्ट्रेच”


आप अपने पीठ के बल सीधा लेट जाएँ और अपने दोनों पैरों को ऊपर उठायें। इसके बाद अपने दोनों पैरों को घुटने द्वारा मोड़ते हुए अपने दोनों हाथों से जकड लें। 5 सेकंड के बाद दोनों पैरों को सीधा कर लें। इस प्रक्रियां को 10 से 12 बार करें।

“कैंची”


आप अपने पीठ के बल सीधा लेट जाएँ और अपने दोनों पैरों को ऊपर उठायें। इसके बाद आप धीरे-धीरे अपने दाहिने पैर को निचे लाएं और सीधा कर लें और फिर बाएं पैर को को निचे लाते हुए अपने दाहिने पैर को ऊपर उठायें ।

“लेग ड्राप”


आप अपने पीठ के बल सीधा लेट जाएँ और अपने दोनों पैरों को ऊपर की तरफ उठायें और पैरों को सीधा रखें उठायें। इसके बाद पैरों से 45 डिग्री का कोण बनाये और रुक जाएँ। इस प्रक्रियां को 10 से 12 बार करें।

“साइकिल क्रंच”


आप अपने पीठ के बल सीधा लेट जाएँ और अपने दोनों हाथों को सिर के निचे लगाकर रखें और दोनों पैरों से हवा में साइकिल चालाएँ। जब भी घुटने आपके चेहरे के तरफ आये तो अपने केहुनी से घुटनों को छूने का प्रयास करें। इस प्रक्रियां को 10 से 12 बार करें।

पेट कम करने के घरेलु उपाय

अपने पेट को कम करने के लिए लोग अपने पैसे खर्च करते है उन चीजों पर जो बाजार में सिर्फ लोगों को ठगने और लूटने के लिए बैठे है। आज हम आपको बताने जा रहें है, कुछ घरेलू उपाय जिनका उपयोग करके आप आसानी से अपना पेट को कम कर लेंगे। तो आइये शुरू करते है :


बादाम :

पेट कम करने में बादाम काफी सहायक है। इसमें “पॉलीअनसेचुरेटेड” और “मोनौंसतुरतेड़” वसा, ज्यादा भोजन करने से बचाता है और ये भूख को कम करता है। इसमें भरपूर मात्रा में गुणकारी वसा समाहित होता है। इसमें “हाई फाइबर” होते है जो मनुष्य को भूख का एहसास नहीं होने देते और शरीर को पर्याप्त मात्रा में ऊर्जा प्रदान करते है।


सेब :

इसमें उत्कृष्ट मात्रा में “डाइट्री फाइबर” मौजूद होता है। सेब में मौजूद फाइबर – “फ्लेवोनॉयड्स”, “फीटोस्ट्रॉल” और “बीटा-कैरोटीन” पेट में मौजूद वसा को कम करने में सहायक होते है।


तरबूज :

इसमें 91% जल होता है इसलिए पेट कम करने में तरबूज सहायक होता है। तरबूज में विटामिन B1, B6 तथा विटामिन C मौजूद होता है। विज्ञान की माने तो, हर रोज 2 गिलास तरबूज का रस पिने से 8 सप्ताह में ही पेट कम हो जायेगा और सारी चर्बी भी घट जाएगी।


बिन्स :

यदि आप रोज अपने भोजन में बिन्स को शामिल करे तो बिन्स में मौजूद पोषक तत्व चर्बी को बहुत जल्द ही कम कर देते है। बिन्स, “सोलबल फाइबर” का अच्छा स्रोत है।


अजवाइन :

पेट की चर्बी को कम करने के लिए अजवाइन के बीज तथा उसकी पत्तिया काफी फायदेमंद होती है। खाने से पहले आजवाइन के पानी का सेवन करने से पाचन क्रिया सही रहती है।


खीरा :

इसमें 96% जल होता है इसलिए पेट कम करने में खीरा सहायक होता है। खीरा का सेवन प्रतिदिन करने से शरीर में बनने वाले बिषाक्त पदार्थ खत्म हो जाते है।

पेट कम करने के लिए प्राणायाम

अब हम आपको बतलाने जा रहें है उन जरुरी प्राणायामों को, जो बहुत जल्द असर करते है और ये प्राणायाम “बाबा रामदेव” द्वारा बतलायें गए है, जो इस प्रकार है :-


“कपालभाती प्राणायाम”


पेट को कम करने में कपालभाति प्राणायाम बहुत ही लाभकारी है। बाबा रामदेव के अनुसार, पेट कम करने के एक्सरसाइज के साथ-साथ यदि कोई कपालभाति प्राणायाम करें तो मोटापा जल्दी कमेगा और पेट अंदर चला जाएगा। ये प्राणायाम पेट की चर्बी कम करने के साथ-साथ वजन भी घटाता है। इस प्राणायाम को करने से मनुष्य की याददाश्त भी तेज हो जाती है। इस प्राणायाम से कब्ज, एसिडिटी तथा “हाई कोलेस्ट्रॉल” से छुटकारा मिलती है। “गर्भवती महिलाओं” को इस आसान को करने की पूर्णरूप से मनाही है।


“अनुलोम विलोम प्राणायाम”


बाबा रामदेव के अनुसार कपालभाति के तरह ही अनुलोम विलोम प्राणायाम भी पेट कम करने के लिए रामबाण उपाय है। अनुलोम विलोम प्राणायाम “नाड़ी शोधन प्राणायाम” के नाम से भी जाना जाता है। इस प्राणायाम को करने से हमारे शरीर में रक्त परवाह ठीक रहती है।

पेट घटाने के लिए कौन सा योग करना चाहिए ?


पेट घटाने के लिए जो सबसे ज्यादा लाभकारी योग है वो इस प्रकार है :-


“सेतु बंधा योगासन” :


इस योगासन में सबसे पहले आप जमीन पर आसान बिछा कर पीठ के बल लेटें और अपने घुटनों को मोड़ें तथा अपने पैरों की तलवट को जमीन पर टिका कर रखें। अपने बाजुवों को जमीन से सटाएं रखें और अब सांस को बहार छोड़ते हुए अपने शरीर को ऊपर उठायें और कुछ देर उसी अवस्था में रहें और फिर धीरे-धीरे सामान्य अवस्था में वापस आजायें ।


“बालासन योग”


इस योगासन में सबसे पहले आप जमीन पर आसान बिछा कर घुटनों के बल पर बैठ जाएँ और अपना पूरा भार एड़ियों पर दें। इसके बाद आप अपने आगे की और झुकें। इस स्थिति में आपकी छाती आपके घुटनो को छुवे ये बहुत जरुरी है और साथ ही साथ ये भी बहुत जरुरी है कि आपका सिर जमीन को छुवें। कुछ देर तक इसी स्थिति में रहें। इसे 6 से 7 बार करें।


“नौकासन योग”


इस योगासन में सबसे पहले आप जमीन पर आसन बिछा कर पीठ के बल लेटें और अपने पंजों और पैरों की एड़ियों को ठीक से मिलाएं। इसके बाद अपने दोनों हाथों को अपने कमर से सटा कर रखें फिर आप अपने दोनों हाथों, पैरों और गर्दन को समान्तर क्रम में ऊपर की और उठायें। आपके शरीर का सारा भार आपके नितम्ब पर होना चाहिए। 30 सेकंड तक इसी अवस्था में रहें फिर प्रारम्भिक अवस्था में वापस आजायें। इस आसन को 4 से 5 बार करें।

Leave a Reply